Home BASIC ELECTRICAL Magnetic Flux Density in Hindi | चुंबकीय फ्लक्स घनत्व

Magnetic Flux Density in Hindi | चुंबकीय फ्लक्स घनत्व

0
SHARE

चुंबकीय फ्लक्स घनत्व (Magnetic Flux  Density)

किसी एक पृष्ठ के इकाई क्षेत्रफल (Unit Area) से लंबवत ( Normally) अर्थात 90 डिग्री से गुजरने वाले चुंबकीय फ्लक्सों को चुंबकीय फ्लक्स घनत्व ( Magnetic Flux Density ) कहतें है |

 

या

 

दूसरे शब्दों में कहें तो इकाई क्षेत्रफल में चुंबकीय फ्लक्स (Magnetic Flux)  की मात्रा को चुंबकीय फ्लक्स घनत्व चुंबकीय फ्लक्स घनत्व ( Magnetic Flux  Density ) कहते हैं |

unit of magnetic flux density-

  • चुंबकीय फ्लक्स घनत्व चुंबकीय फ्लक्स घनत्व ( Magnetic Flux  Density ) का SI मात्रक वेबर प्रति वर्ग मीटर या टेस्ला (tesla होता है|
  • CGS प्रणाली में इसका मात्रक गौस है |
  • यह एक सदिश  राशि है |
  • इसे B से प्रदर्शित करतें  हैं |
  • अतः  Magnetic Flux  Density formula-

चुंबकीय फ्लक्स घनत्व ( Magnetic Flux  Density) , B = Φ/ A
                                                             

 जहाँ – Φ चुंबकीय फ्लक्स  (Magnetic Flux )

           A चुंबकीय फ्लक्स के लम्बवत अनुप्रस्थकाट का क्षेत्रफल  ( Cross Sectional Area )

किसी कुंडली के समतल  प्रवाहित होने वाले चुंबकीय फ्लक्स –

1. जब किसी कुंडली के समतल (चित्र अ में )  से चुंबकीय फ्लक्स (Magnetic Flux )   ,θ कोण से प्रवाहित होते हैं तो उस कुंडली से प्रवाहित होने वाले चुंबकीय फ्लक्स होंगे

चित्र अ
    Φ  = B A sin θ Wb

नोट- θ   कुंडली के समतल और चुंबकीय फ्लक्सों  (Magnetic Flux ) के प्रवाह की दिशा के बिच का कोण है जबकि कुंडली के लंम्ब  और चुंबकीय फ्लक्सों  (Magnetic Flux ) के प्रवाह की दिशा के बिच का कोण 90°- θ  है |

2. (चित्र ब) जब चुंबकीय फ्लक्स  (Magnetic Flux )  के प्रवाह की दिशा किसी कुंडली (Coile) के समतल के लंबवत ( Perpendicular ) होती है तो उस कुंडली से अधिकतम चुंबकीय फ्लक्स (Maximum Magnetic Flux)  गुजरते हैं अर्थात कोण θ  , 90° होने के कारण  कुंडली और चुंबकीय फ्लक्सों के बीच की ऐसी स्थिति होने पर  कुंडली से सबसे अधिक चुंबकीय फ्लक्स प्रवाहित होते हैं |

चित्र ब
                                              Maximum flux, φm  = B. A    Wb
3.  (चित्र स) जब चुंबकीय फ्लक्सों  (Magnetic Flux ) के प्रवाह की दिशा कुंडली के समतल के समांतर होती है तो उस कुंडली से न्यूनतम चुंबकीय फ्लक्स गुजरते हैं अर्थात कोण θ  , 0° होने के कारण  कुंडली और चुंबकीय फ्लक्सों के बीच ऐसी स्थिति होने पर कुंडली से सबसे कम चुंबकीय फ्लक्स गुजरते हैं |
चित्र स

NOTE:-क्या आप किसी प्रतियोगी परीक्षा जैसे Rly. SSC आदि की तैयारी कर रहे हैं। यदि हां तो हम आपके लिए सामान्य ज्ञान के अति महत्वपूर्ण प्रश्नों का QUIZ APP लेकर आए हैं। यह ऐप आपके लिए बहुत ही सहायक सिद्ध होगा। इस ऐप को क्लिक  करके  डाउनलोड कीजिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here