Home BASIC ELECTRICAL Magnetic permeability definition in hindi

Magnetic permeability definition in hindi

0
SHARE

चुंबकशीलता (Magnetic permeability)

“किसी पदार्थ की चुंबकशीलता (Magnetic Permeability) उस पदार्थ से चुंबकीय फ्लक्स की चालकता (Conductivity) है।”

  • जब किसी पदार्थ की चुंबकशीलता (Magnetic Permeability) अधिक होती है, तो उस पदार्थ से चुंबकीय फ्लक्स  (Magnetic flux) की  चालकता अधिक होगी|
  • जब उस पदार्थ की चुंबकशीलता  (Magnetic Permeability) कम होती है, तो चुंबकीय फ्लक्स  (Magnetic flux) की चालकता कम होगी
  • वायु या निर्वात (Air or Vacuum) में चुंबकीय फ्लक्स  की चालकता सबसे कम होती है।
  • वायु या निर्वात माध्यम की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute  permeability), μ0 का मान 4π × 107  H/m होता है।

                               μ0  =  4π × 107  H/m 

  • सभी अनु-चुंबकीय पदार्थों (Non-magnetic Material) की भी  निरपेक्ष चुंबकशीलता  (Absolute  permeability), μ0 का मान 4π × 107  H/m होता है।                                                                                                        
  • किसी चुंबकीय पदार्थ की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute  permeability), μ का मान वायु या निर्वात के निरपेक्ष चुंबकशीलता μ0 के मान से बहुत अधिक होता है।
                                                        
                                     μ  > > μ0

सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability)

किसी चुंबकीय पदार्थ की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute  permeability),  μ और निर्वात या वायु की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute  permeability), μ0 का अनुपात (μ/μ0) उस चुंबकीय पदार्थ की सापेक्ष चुंबकशीलता  (Relative permeability) कहलाती है।
                                                                 या
किसी पदार्थ की सापेक्ष चुंबकशीलता किसी एक ही चुंबकीय क्षेत्र द्वारा उस पदार्थ में उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स घनत्व (Magnetic Flux Density) तथा निर्वात या वायु में उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स घनत्व का अनुपात है।
  • इसे  μr  से प्रदर्शित करते हैं।
  • किसी चुंबकीय पदार्थ की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability) होगा –
                                                             μr =  μ/μ0
           जहाँ  μ -चुंबकीय पदार्थ की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute permeability)
                  μ0 -निर्वात या वायु की निरपेक्ष चुंबकशीलता (Absolute permeability)
                  μr -चुंबकीय पदार्थ की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability)
निर्वात या वायु की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability) , μr =  μ0/μ0
                                                                                                   = 1
अतः
  • वायु या निर्वात की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability) μr  , 1 होगी।
  • सभी अनु-चुंबकीय पदार्थों की सापेक्ष चुंबकशीलता भी  1 होती है क्योंकि सभी अनु-चुंबकीय पदार्थों की निरपेक्ष चुंबकशीलता  μ का मान 4π × 107  H/m होता है।
  • सभी चुंबकीय पदार्थों की  सापेक्ष चुंबकशीलता  (Relative permeability) का मान बहुत ही अधिक होता है।

 उदाहरण से समझे तो-

शुद्ध लोहे (Soft Iron or Pure Iron) की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability)  का मान 8000 होता है। जबकि लोहे और निकिल से मिलकर बनी मिश्र धातुओं (Alloys) की सापेक्ष चुंबकशीलता का मान शुद्ध लोहे के अपेक्षा बहुत ही अधिक, 50,000 होता है।

सापेक्ष चुंबकशीलता का सिद्धांत (Concept of Relative Permeability)

किसी चुंबकीय पदार्थ की सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability) का मान उस चुंबकीय पदार्थ से चुंबकीय फ्लक्सों (Magnetic flux) की अधिक चालकता अर्थात प्रवाह का वायु या निर्वात की अपेक्षा, माप है। सापेक्ष चुंबकशीलता (Relative permeability) के सिद्धांत को नीचे दिए गए चित्रों के माध्यम से भलीभांति समझने का प्रयास करेंगे। चित्र अ में चुंबकीय फ्लक्स (Magnetic flux) वायु माध्यम से होते हुए उत्तरी ध्रुव से दक्षिणी ध्रुव की ओर जा रहा है।

चित्र अ

मानिए कि यदि इन्हीं दोनों ध्रुवों के बीच में एक शुद्ध लोहे के छल्ले (Soft Iron Ring) को रख दिया जाता है (चित्र ब में ) तो चूंकि लोहा चुंबकीय फ्लक्स (Magnetic flux) का बहुत अच्छा चालक होता है,

चित्र ब

इसलिए सभी चुंबकीय फ्लक्स (Magnetic flux)  इस लोहे के छल्ले से होते हुए उत्तरी ध्रुव (North Pole) से दक्षिणी ध्रुव (South Pole) की ओर जाएंगे जिससे कि लोहे के छल्ले में चुंबकीय फ्लक्स का घनत्व ( Flux Density) वायु की अपेक्षा बहुत अधिक हो जाता है।

  • शुद्ध लोहे में चुंबकीय फ्लक्स घनत्व का मान वायु की अपेक्षा 8000 गुना होता है ।
  • सभी चुंबकीय पदार्थों के उच्च सापेक्ष चुंबकशीलता के कारण इनका प्रयोग विद्युतचुंबकीय यंत्रों  तथा उपकरणों (Electromagnetic Instrument) में क्रोड (Core) के रूप में बहुत बड़े स्तर पर किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here