Home BASIC ELECTRICAL Electrical Resistor in hindi | प्रतिरोधक

Electrical Resistor in hindi | प्रतिरोधक

0
SHARE

प्रतिरोधक (Resistor)

Resistor, “किसी इलेक्ट्रिकल सर्किट या इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में प्रयोग होने वाला वह passive element जो इन परिपथो  में प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा (Electric current) को सीमित और नियंत्रित करता है| ”
या

दूसरे शब्दों में कहें तो-

“वह passive element जोकि किसी इलेक्ट्रिकल सर्किट या इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में प्रतिरोध का विशेष मान उपलब्ध कराता है, प्रतिरोधक (Resistor) कहलाता है| ”

  • इनमें दो टर्मिनल होते हैं|
  • यह सर्किट का passive element  होतें हैं |

मुख्य रूप से इसका कार्य-

  • इलेक्ट्रिकल सर्किट या इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में विद्युत धारा (Electric current) को नियंत्रित करना
  • वोल्टेज (Voltage) का विभाजन करना
  • कभी-कभी विशेष अवस्था में इसका प्रयोग उष्मा (Heat) उत्पन्न करने के लिए भी किया जाता है|

Types of Resistors-

मूलतः प्रतिरोधक दो प्रकार के होते हैं-

  1. Linear Resistors
  2. Non-Linear Resistors

1.) Linear Resistors-

वह Resistors जिसके प्रतिरोध का मान उस पर प्रयुक्त की गई वोल्टेज के परिवर्तन के साथ भी स्थिर रहता है |

या

दूसरे शब्दों में समझे तो वह Resistors जिससे प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा उसपे प्रयुक्त वोल्टेज के अनुक्रमानुपाती होती है|

  • यह Resistors,ohm’s law का पालन करते हैं|
  • इनका V-I ग्राफ रेखीय (linear) होता है इसलिए इन को रेखीय प्रतिरोधक (linear resistors) कहते हैं

Linear Resistors समानतः दो प्रकार के होते हैं-

1.1) Fixed resistor-

वह प्रतिरोधक जिसके प्रतिरोध का मान वोल्टेज या तापमान के बदलने के साथ नहीं बदलता है अर्थात इसके प्रतिरोध पर तापमान या वोल्टेज का प्रभाव नहीं पता,Fixed resistor कहलाता है|

जैसे-

  1. carbon composition resistors
  2. wire wound resistors
  3. thin film resistors
  4. thick film resistors
  • विद्युतीय इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में समानतः Fixed resistor का ही प्रयोग होता है|
  • ideal fixed resistor का मान सभी स्थिति में परिवर्तनीय होता है परंतु व्यवहारिक रूप में प्रयोग किए जाने वाले fixed resistor पर तापमान के परिवर्तन का प्रभाव पड़ता है|
  • इस प्रतिरोधक का मान इसको डिजाइन करते समय निर्धारित कर दिया जाता है|
  • इसके मान को हम पुनः बदल नहीं सकते|

1.2) variable resistor-

जैसा किसके नाम से ही प्रतीत हो रहा है कि वह रजिस्टर जिस का मान किसी के द्वारा या स्वयं बदला जा सकता है| जैसे- 

  1. Potentiometers
  2.  Rheostats
  3. Trimmers
  • इन  प्रतिरोधक में इनके मान को बदलने के लिए स्क्रु या नॉब या डायल लगे होते हैं|
  • इन प्रतिरोधक में सरकन भुजा (Sliding arm) होती है जो कि शाफ्ट से जुड़ी होती है और प्रतिरोधक के मान को बदलने के लिए इस भुजा को ही  घूमाते हैं|

 

2.) Non-Linear Resistors-

वह प्रतिरोधक जिसमें प्रवाहित होने वाली विद्युत धारा ohm’s law के अनुसार नहीं बदलती लेकिन इस पर वोल्टेज या तापमान या प्रकाश का प्रभाव अवश्य पड़ता है|

  • यह Resistors,ohm’s law का पालन नहीं करते हैं|
  • इनका V-I ग्राफ रेखीय (linear) नहीं  होता है इसलिए इन को अरेखीय प्रतिरोधक (Non-linear resistors) कहते हैं|

Non-linear resistors निम्न प्रकार के होते हैं-

  1. Thermisters
  2. Varisters (VDR
  3. Photo Resistor or Photo Conductive Cell or LDR

NOTE:-क्या आप किसी प्रतियोगी परीक्षा जैसे Rly. SSC आदि की तैयारी कर रहे हैं। यदि हां तो हम आपके लिए सामान्य ज्ञान के अति महत्वपूर्ण प्रश्नों का QUIZ APP लेकर आए हैं। यह ऐप आपके लिए बहुत ही सहायक सिद्ध होगा। इस ऐप को क्लिक  करके  डाउनलोड कीजिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here